akhbar jagat

एसडीएम ने भाजपा नेता के साथ ऑफिस में कराई थी तोड़फोड़

एसडीएम ने भाजपा नेता के साथ ऑफिस में कराई थी तोड़फोड़

अख़बार जगत । पुलिस ने छतरपुर एसडीएम अनिल सकपाले को अपने कार्यालय में हमला और तोड़फोड़ कराने की साजिश के आरोप में हिरासत में लिया है। पुलिस का कहना है- भाजपा जिला अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री जावेद अख्तर के साथ एसडीएम ने हमले की साजिश रची थी। पुलिस सूत्रों की माने तो दो प्राइवेट यूनिवर्सिटियों की व्यावसायिक प्रतिद्वंद्विता में एक को लाभ पहुंचाने के लिए यह साजिश रची गई है। पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, कलेक्टर छतरपुर मोहित बुंदस के प्रतिवेदन और एसपी की जांच रिपोर्ट पर सागर संभागायुक्त आनंद कुमार शर्मा ने एसडीएम सकपाले को सस्पेंड कर दिया है ।  

पुलिस ने बताया कि हमें आरोपी पुष्पेंद्र गौतम के फोन से एक वाइस रिकॉर्ड मिला है। जिसमें पता चला है कि एसडीएम से उनकी 10 साल पुरानी मित्रता है। रिकॉर्डिंग में स्पष्ट है कि एसडीएम कार्यालय में हमला करने और तोड़फोड़ के लिए 4-5 लड़कों को बुलाने के लिए एसडीएम सकपाले ने ही कहा था। इस साजिश में पुष्पेंद्र गौतम के साथ ही राजू बुंदेला की अहम भूमिका थी। पुलिस को पुष्पेंद्र गौतम ने बताया कि एसडीएम सकपाले की छतरपुर में ही पदस्थ रहें, इसके लिए 15 लाख रुपए दे चुका है। दिसंबर 2019 में 4 लाख 70 हजार रुपए दिया था। वाइस रिकॉर्डिंग में एसडीएम सकपाले से लेन-देन और एसडीएम को स्टे दिलाने की बातचीत भी उपलब्ध है। इससे दोनों के बीच घनिष्ठता का पता चला है।  

पुलिस सूत्रों की मानें तो- छतरपुर में एसडीएम कार्यालय में हमले के आरोपी पुष्पेंद्र गौतम कृष्णा यूनिवर्सिटी के संचालक हैं। पुष्पेंद्र की खजुराहो यूनिवर्सिटी के संचालक अभय सिंह भदौरिया से व्यवसायिक प्रतिद्वंद्विता है। इसमें पुष्पेंद्र गौतम को लाभ पहुंचाने के लिए एसडीएम पर हमले की साजिश रची गई, जिससे अभय सिंह भदौरिया को फंसाया जा सके। कुछ दिन पहले भू-माफिया की कार्रवाई में अभय सिंह भदौरिया पर पुलिस ने केस भी दर्ज किया था

इस पुरे मामले में एएसपी जयराज कुबेर ने बताया- पुलिस एसडीएम सकपाले को उनके सरकारी आवास पर हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। उनके मोबाइल को भी खंगाला जा रहा है। पुलिस के मुताबिक, छतरपुर एसडीएम अनिल सपकाले ने भाजपा जिला अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश मंत्री जावेद अख्तर, कृष्णा विश्वविद्यालय के डायरेक्टर पुष्पेंद्र गौतम, राजू उर्फ राजेंद्र बुंदेला, अर्जुन उर्फ संतोष श्रीवास और अमित परमार से मिलकर खुद पर साजिश रची थी। एडीएम ने ही पूरी योजना बनाकर इस घटना को अंजाम दिलाया है। हमले के दौरान हमलावर किसी भदौरिया का नाम लेकर चिल्ला रहे थे। पुलिस ने भदौरिया से पूछताछ की, लेकिन जांच में पता चला कि भदौरिया को ही फंसाने के लिए ऐसा किया गया था।

    Tags :
    Web Title : SDM vandalized office with BJP leader