akhbar jagat

फ्लिपकार्ट अधिकारी बनकर बदमाश ने की 38 हजार रुपए की ऑनलाइन ठगी

फ्लिपकार्ट अधिकारी बनकर बदमाश ने की 38 हजार रुपए की ऑनलाइन ठगी

अख़बार जगत। इंटरनेट के जरिए खरीदा मोबाइल खराब हुआ तो युवक ने उसे वापस करने के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया करते हुए अपना मोबाइल नंबर डाला। इसके बाद ठग ने कंपनी का अधिकारी बन युवक से संपर्क किया एटीएम नंबर व ओटीपी हासिल कर हजारों रुपए की ऑनलाइन चपत लगा दी। इसी तरह ठगी के एक अन्य मामले में आरोपियों ने फरियादी के खाते से 76 हजार रुपए किसी अन्य खाते में ट्रांसफर कर दिए। दोनों मामलों की जांच पुलिस द्वारा की जा रही है।


बाणगंगा पुलिस ने न्यू जगन्नाथ नगर निवासी राजपाल (20) की शिकायत पर आईसीआईसीआई बैंक के खाता नंबर 343601505849 के धारक मुछीराम जमुड़ा निवासी बुरुगौरा खारसावनगढ़ सेरिकेला (झारखंड) और युनाईटेड बैंक ऑफ़ इंडिया के खाता नंबर 2041010160117 के धारक पर केस दर्ज किया है। कुछ माह पहले राजपाल ने शिकायत की थी कि उसने फ्लिपकार्ट से एक मोबाइल खरीदा था। उसमें तकनीकी खराबी आई तो उसने मोबाइल रिटर्न करने के लिए फ्लिप कार्ड की साइट पर जाकर ऑनलाइन प्रक्रिया की।

तब उसे 5 से 7 दिनों में मोबाइल के रुपए वापस दे दिए जाने की बात कही गई। इसके एक-दो दिन बाद उसे एक व्यक्ति का मोबाइल नंबर 6289299863 से फोन आया। उसने खुद को फ्लिपकार्ट कंपनी का अधिकारी बताया। उसने राजपाल को रुपए तुरंत लौटाने का झांसा दिया और उसके एटीएम का नंबर ले लिया। इसके बाद बातों में उलझाकर उसके नंबर पर आया ओटीपी भी ले लिया और उसके खाते से 38,300 रुपए उक्त दोनों खातों में ट्रांसफर कर उसे ठग लिया। 


इसी तरह जूनी इंदौर पुलिस ने भी हीरालाल पिता गोवर्धनलाल शर्मा (65) निवासी रूपराम नगर की शिकायत पर संताना ओराव निवासी ब्रम्हपुरे मुर्शिदाबाद (पश्चिम बंगाल) और निमाई मलिक निवासी जमुनिया नंदी रोड वर्धमान स्टेट (पश्चिम बंगाल) पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने 12 जुलाई 2019 को शर्मा को बातों में उलझाकर उनका एटीएम नंबर हासिल करने के बाद ओटीपी नंबर हासिल कर कई बार में उनके खाते से 76,662 रुपए दूसरों के खातों में ट्रांसफर कर लिए।

    Web Title : By becoming a Flipkart officer, the crooks cheated online of 38 thousand rupees